75 साल से एक पेड़ के नीचे बच्चों को मुफ्त में पढ़ाते हैं बाबा, सरकार से मदद लेने से है साफ इंकार

75 साल से एक पेड़ के नीचे बच्चों को मुफ्त में पढ़ाते हैं बाबा, सरकार से मदद लेने से है साफ इंकार
▶️ओड़िशा के जाजपुर के जज्बे को सलाम, 75 सालों से मुफ्त में दे रहे हैं शिक्षा
▶️नारंगी कपड़ो में साधारण रूप में रहते हैं बाबा, एक पेड़ के नीचे बच्चों को पढ़ाने का करते हैं पुण्य
▶️सरकार से मदद लेने से किया है साफ इंकार, सरपंच करेगी मदद

Jajbe Ko Salam: कहते हैं अगर दिल में जज़्बा हो और कुछ कर गुज़रने का जुनून आपके अंदर कूट कूटकर भरा हो तो उम्र मायने नहीं रखती। लेकिन गिनती मात्र लोग ही इस कथन को हकीकत में तब्दील करने की हिम्मत रखते हैं। आज हम आपको एक ऐसे ही शख्स के बारे में बताने जा रहे हैं जो उम्र में भले ही ज़िन्दगी की आधी से ज़्यादा पारी खेल चुके हों लेकिन इस उम्र में भी वो कुछ ऐसा काम कर रहे हैं जिससे भविष्य में उजागर होने वाले कुछ सितारों को रौशनी मिल रही है।

पेड़ के नीचे दे रहे हैं मुफ्त शिक्षा

ऊपर जिस शख्स के बारे में हमनें आपको बताया वो ओडिशा (Odisha) के जाजपुर (Jajpur) में रहने वाले एक बुज़ुर्ग हैं। पिछले 75 सालों से यह एक पेड़ की छाया में बच्चों को निःशुल्क पढ़ाने (Free Education) का पुण्य करते आ रहे हैं।

jajbe ko salam: free education since 75 years.

ना कोई सुविधा, ना आर्थिक रूप से मज़बूत लेकिन फिर भी बीते कई सालों से मुफ्त में बच्चों को पढ़ाना कोई छोटी बात नहीं है। यह बाबा नारंगी कपड़ों में ही साधारण से रूप में रहते हैं। बच्चों को स्लेट में पढ़ाते हैं। तस्वीरों में आप देख सकते हैं कि किस तरह से ये बाबा बच्चों को पढ़ा रहे हैं और उन्हें आशीर्वाद दे रहे हैं।

jajbe ko salam: free education since 75 years.

सरकार से नहीं ली कोई मदद, सरपंच करेगी सपोर्ट

बरटंडा (Bartanda) के सरपंच (Sarpanch) ने इन बाबा के बारे में बताते हुए कहा कि यह पिछले 75 सालों से बच्चोँ को पढ़ाते हुए आ रहे हैं। पढ़ना बाबा का जुनून है इसलिए इन्होंने सरकार की तरफ़ से किसी भी तरह की मदद लेने को इंकार कर दिया। लेकिन हम सबने इस बात का फ़ैसला लिया है कि जल्द ही बाबा के लिए किसी ऐसी जगह का निर्माण करेंगे जहाँ पर वो बच्चों को आराम से पढ़ा पाएंगे।

आगे पढ़ें-

Mahima Nigam

Mahima Nigam

महिमा एक चंचल स्वभाव कि लड़की है और रियल लाइफ में खेलकूद करने के साथ इन्हें शब्दों के साथ खेलना भी काफी पसंद है। बता दें कि इस वेबसाइट को शुरू करने का सपना भी महिमा का है और उसे मंज़िल तक पहुंचाने का भी। उम्मीद करते हैं कि आप साथ देंगे