कोर्ट ने अवमानना मामले में वकील प्रशांत भूषण को दिया दोषी करार, अब अगस्त को सुनाई जा सकती है सजा

कोर्ट ने अवमानना मामले में वकील प्रशांत भूषण को दिया दोषी करार, अब अगस्त को सुनाई जा सकती है सजा
▶️ अवमानना मामले में प्रशांत भूषण को ठहराया है दोषी अगली कार्रवाई 20 अगस्त को होगी
▶️ प्रशांत भूषण ने किया था विवादित ट्वीट कोर्ट ने माना इसे अवमानना का मुकदमा भूषण के घर भेजा था कोर्ट ने नोटिस
▶️ प्रशांत भूषण के मुताबिक की अवमानना नहीं आलू चना है जिससे कोर्ट की गरिमा को ठेस नहीं पहुंचती

अपने विवादित बयानों के लिए हमेशा से ही सुर्खियों में रहने वाले वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण को एक ट्वीट करना महंगा पड़ गया है। जिसकी वजह से प्रशांत पर अपमान करने का आरोप लग गया और अवमानना मामले में कोर्ट ने वकील प्रशांत भूषण को दोषी करार दिया है। अब इस मामले की सुनवाई 20 अगस्त को होगी जिसमें उन्हें सजा सुनाई जा सकती है।

CJI बोबडे और अन्य सीजेआई के बारे में किया था ट्वीट

CJI Bobde finds Prashant Bhushan gulty of controversial twwet

आपको बता दें कि वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने कुछ दिनों पहले सीजेआई एस ए बोबडे और अन्य चार सीजेआई के बारे में अपमानित ट्वीट किया था। पिछले दिनों एक फोटो वायरल हो रही थी जिसमें बोबडे (Anand Bobde) एक बाइक पर बैठे नजर आ रहे थे, बताया जा रहा था कि बोबडे को शुरू से ही बाइकों का शौक रहा है जिस पर प्रशांत भूषण ने ट्वीट किया था जो अवमानना का विषय माना गया था। इसके साथ ही अन्य सीजेआई पर भी लोकतंत्र को क्षति पहुंचाने के आरोप लगाए थे जिसके बाद एक्शन में आकर कोर्ट ने उनके खिलाफ अवमानना की कार्यवाही शुरू कर दी। और प्रशांत भूषण को उनके घर पर नोटिस भेजा गया था

प्रशांत भूषण ने इसे अवमानना नहीं आलोचना बताया

अपनी सफाई खुद पेश करते हुए वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण ने अपनी सफाई देते हुए कहा कि भले ही कोर्ट को अप्रिय लगे लेकिन यह सीजेआई की आलोचना कोर्ट की गरिमा को कम नहीं करता, और यह ट्वीट कोर्ट में कई दिनों से कार्यवाही ना होने को लेकर उनकी पीड़ा को दर्शाता है। और यह है कुल मिलाकर अवमानना नहीं है। आपको बता दें कि कोरोनावायरस (corona virus) होने के बाद लॉक डाउन लगने पर भी लगातार सुप्रीम कोर्ट की कार्यवाही चलती रही जिसमें सभी वकील और जज अपना काम करते रहे हैं। इसीलिए इसे कोर्ट की अवमानना माना गया है

अगली कार्रवाई होनी है 20 अगस्त को

कोर्ट ने अवमानना के मामले में केस दर्ज करते हुए वरिष्ठ वकील प्रशांत भूषण को दोषी ठहराया है और उनको अवमानना अधिनियम 12 के तहत तय किए गए प्रावधानों के अनुसार 20 अगस्त को सजा सुनाई जा सकती है जिसमें उन्हें 6 महीने का कारावास या 2 हज़ार नगद जुर्माना या फिर दोनों ही लगाया जा सकता है कोर्ट की कार्रवाई अब 20 अगस्त को होगी।

ये भी पढ़े :

thetossnews

thetossnews