सार्वजनिक जगहों पर छठ को लेकर लगा प्रतिबंध, सीएम केजरीवाल के आवास के आगे प्रदर्शन जारी

सार्वजनिक जगहों पर छठ को लेकर लगा प्रतिबंध, सीएम केजरीवाल के आवास के आगे प्रदर्शन जारी
▶️ट्विटर पर ट्रेंड बना #छठतोघाटपरही_होगा, लाखों लोग कर रहे हैं ट्वीट
▶️बीजेपी ने भी नदी के किनारों, मंदिरों में और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर छठ पूजा पर लगे प्रतिबंध को हटाने की मांग की है
▶️सावर्जनिक जगहों के लिए छठ को प्रतिबंधित कर पूर्वांचल के लाखों लोगों के साथ भेदभाव किया जा रहा है- जनता

Chhath Puja 2020 Trending On Twitter: आज सुबह से ही ट्विटर पर #छठ_तो_घाट_पर_ही_होगा ट्रेंड कर रहा है, ऐसा इसलिए क्योंकि राजधानी दिल्ली में एक बार फिर कोरोना (Corona in Delhi) बेकाबू हो गया है जिसकी वजह से दिल्ली सरकार ने आस्था के पर्व छठ पूजा को सार्वजनिक जगहों पर करने से मना कर दिया है। सरकार के इस फैसले का सभी विरोध कर रहे हैं। बीजेपी (BJP) ने भी दिल्ली इकाई में नदी के किनारों, मंदिरों में और अन्य सार्वजनिक स्थानों पर छठ पूजा (Chhath Puja 2020) पर लगे प्रतिबंध को हटाने की मांग की है।

मुख्यमंत्री आवास के आगे प्रदर्शन

बता दें कि मंगलवार को दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल (Arvind kejriwal) के आवास के सामने जोरदार प्रदर्शन हुआ। लोगों का कहना था कि सीएम केजरीवाल के इस फैसले से दिल्ली में रहने वाले बिहार (Bihar) एवं पूर्वांचल के लोगों की धार्मिक भावनाओँ को ठेस पहुंची है।

आम आदमी पार्टी को मिली धमकी

इस प्रर्शन में भारतीय जनता पार्टी (BJP) की दिल्ली इकाई के उपाध्यक्ष दिनेश प्रताप सिंह (Dinesh Pratap Singh) ने धमकी भरे अंदाज में कहा कि आदमी पार्टी की सरकार अगले 24 घंटे के अंदर अपने इस फैसले को वापस ले ले वरना पूर्वांचल के लोग इसे उचित समय पर सबक सिखायेंगे। बता दें कि सैकड़ों पूर्वांचलियों ने इस विरोध प्रदर्शन में हिस्सा लिया।

लोगों का पक्ष

छठ महापर्व (Chhath Mahaparv) को लेकर प्रदर्शन कर रहे लोगों का कहना है कि जब सीएम केजरीवाल ने साप्ताहिक बाजारों, मॉलों और शराब की दुकानों को खोलने की मंजूरी दे दी है साथ ही डीटीसी बसें भी चलने लगीं है तो छठ महापर्व को सावर्जनिक जगहों के लिए प्रतिबंधित कर पूर्वांचल के लाखों लोगों के साथ भेदभाव क्यों किया जा रहा है।

लोगों का कहना है कि जिस तरह से पत्र लिखकर छठ पूजा को सार्वजनिक जगहों पर करने के लिए प्रतिबंध लगा दिया है उसी तरह से वो खत लिखकर अपने फैसले को वापस लें और घाट पर छठ करने की मंजूरी दें।

आगे पढ़े-

Mahima Nigam

Mahima Nigam

महिमा एक चंचल स्वभाव कि लड़की है और रियल लाइफ में खेलकूद करने के साथ इन्हें शब्दों के साथ खेलना भी काफी पसंद है। बता दें कि इस वेबसाइट को शुरू करने का सपना भी महिमा का है और उसे मंज़िल तक पहुंचाने का भी। उम्मीद करते हैं कि आप साथ देंगे

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *