हाथरस में हंगामा राजस्थान में चुप्पी क्यों? मनीषा को सीबीआई जांच, दो नाबालिग बच्चियों को इंसाफ कब?

हाथरस में हंगामा राजस्थान में चुप्पी क्यों? मनीषा को सीबीआई जांच, दो नाबालिग बच्चियों को इंसाफ कब?
▶️उत्तर प्रदेश के हाथरस के अलावा राजस्थान के बारां में भी दो लड़कियों के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया गया
▶️जनता का सवाल हाथरस के लिए इतना हंगामा हो रहा है तो आखिर राजस्थान पर चुप्पी क्यों है?
▶️राजस्थान पुलिस पर आरोप लगाया जा रहा है कि रेप मामले को लेकर पुलिस ढिलाई कर रही है

Rajasthan Minor Rape Incident | उत्तर प्रदेश के हाथरस के अलावा राजस्थान के बारां में भी दो लड़कियों के साथ दुष्कर्म की वारदात को अंजाम दिया गया, जिसपर कोई भी सवाल खड़े नहीं कर रहा है। जब इस सवाल को हवा लगी कि हाथरस (Hathas) के लिए इतना हंगामा हो रहा है तो आखिर राजस्थान पर चुप्पी क्यों है? इस सवाल के जवाब में लगातार अशोक गहलोत सरकार पर सवालों की बौछार शुरू हो गई है।

हाथरस में हंगामा राजस्थान में चुप्पी क्यों?

दरअसल राजस्थान में भी दो नाबालिग बहनों के साथ रेप की घटना को अंजाम दिया गया। लेकिन सभी इस कदर हाथरस केस में लगे हुए हैं कि राजस्थन मामले पर किसी की भी नज़र पहुंच ही नहीं रही है। ऐसे में जब राहुल गांधी और प्रियंका गांधी (Rahul and Priyanka Gandhi) हाथरस पीड़ित परिवार से मिलने पहुंचे तो जनता ने ये सवाल उठाना शुरू कर दिया कि आखिर राहुल गांधी राजस्थान क्यों नहीं जा रहें?

इसके अलावा राजस्थान मामले को दबाने के बाद जनता ने ये सवाल उठाना शुरू कर दिया है कि राजस्थान की गहलोत सरकार मामले को दबाने की कोशिश की रही है। इसके अलावा पुलिस पर ये भी आरोप लगाया जा रहा है कि मामले को लेकर पुलिस ढिलाई कर रही है।

क्या था राजस्थान मामला?

Ashok Gehlot criticism as 2 Minors Raped in Rajasthan

बता दें कि राजस्थान के बारां (Baran Rajasthan Rape) में दो नाबालिग बहनें के साथ दुष्कर्म हुआ। जानकारी के अनुसार 19 सितंबर के दिन बच्चियां घर से गायब हुईं जो 22 सितंबर को राजस्थान के कोटा में मिलीं। जिसके बाद पुलिस ने उनका बयान दर्ज किया और बच्चियों को उनके घर पहुंचा दिया गया।

इस मामले में पुलिस ने जानकारी दी है कि दोनों बच्चियों ने अपने बयान में ये कहा है कि दुष्कर्म जैसी कोई घटना नहीं हुई है, इसके अलावा मेडिकल में भी ऐसी कोई जानकारी नहीं मिली है।

पीड़ित बच्चियों का बयान

पुलिस का बयान सुनने के बाद जब मीडिया ने बच्चियों से इस बारे में बातचीत की तो पीड़ित बच्चियों ने कहा कि दो लोग उन्हें जबरदस्ती उठाकर नलका स्टेशन (Nalka station) ले कर गए उसके बाद जयपुर (Jaipur) लेकर गए, वहां दो लोगों ने मिलकर हमारे साथ रेप किया इतना ही नहीं तीन लोगों को और बुलाया गया उन तीन लोगों ने भी हमारे साथ रेप किया।

लड़कियों के बयान सुन कांपे लोग

बच्चियों ने आगे बताया कि उन्हे कुछ नशीली दवाइयां भी दी गई, कोटा (Kota) वापस आने के बाद हमने पापा को सारी घटना बताई जब पुलिस बयान दर्ज कर रही थी तब झूठ बोलने को मजबूर किया गया, कहा गया कि यदि सच बताते हो तो जान से मार देंगे। पीड़ित बच्चियों ने कहा कि हमें कुछ नहीं पता की कहां लेकर गए थे, हमे कुछ खिलाया जाता था जिससे हम होश में ना रहें।

गहलोत सरकार पर सवाल

अब समझने वाली बात ये है कि इतने दिनों तक इन बच्चियों के साथ हवस की प्यास बुझाई गई उसके बाद सही बयान भी दर्ज नहीं किया गया, तब बड़ी बड़ी बातें करने वाली गहलोत सरकार कहां चली गई जब पीड़िता का बयान दर्ज किया गया। हाथरस में कांग्रेस सियासी रोटियां सेक रही है राजस्थान की घटना क्यों नहीं दिख रही। इसका जवाब ये है कि, राजस्थान की घटना को आड़े हाथों इसलिए लिया जा रहा है क्योंकि वहां पहले से ही कांग्रेस का राज है, और हाथरस में इमोशनल ड्रामा खेलकर चुनाव के लिए फायदा (political advantage) बटोरा जा रहा है।

आगे पढ़ें

Juli Kumari

Juli Kumari

जूली एक सिंपल सी लड़की है जिसे खुद सजना और ख़बरों को अपने शब्दों से सजाना बेहद पसंद है। जूली को राजनीति, लाइफस्टाइल और कविताएं लिखने का भी काफी शौक है। आप The Toss News में जूली के लिखे हुए लेखों को पढ़ सकते हैं और पसंद आए तो शेयर भी कर सकते हैं। और एक राज़ की बात बताऊं? कमेंट कर के या हमारे Social Media Platforms पर मेकअप और हेयरस्टाइल टिप्स भी ले सकते हैं।