NIA ने द्वारा अल कायदा के 9 संदिग्ध आतंकियों की हुई गिरप्तारी

NIA ने द्वारा अल कायदा के 9 संदिग्ध आतंकियों की हुई गिरप्तारी
▶️NIA ने केरल और बंगाल के कई हिस्सों में की छापेमारी, भारी संख्या में हुई गिरफ्तारी
▶️घर मे विस्फोटक बनाने के उपकरण सहित कई हथियार भी हुए बरामद
▶️निर्दोष लोगों कि जान लेना था अपराधियों का मुख्य उद्देश्य, ऑनलाइन लेते थे अपराध की ट्रेनिंग

9 Al-Quaeda Terrorists Arrested: NIA (राष्ट्रीय जाँच ऐजेंसी) को कई अलकायदा के विभिन्न अंतरराज्यीय मॉड्यूल्स के बारे में इंटेलिजेंस इनपुट (intelligence input) मिला था,उसी के सिलसिले में छापेमारी हुई और एक बड़ी सफलता NIA के हाथ लगी। शनिवार को बंगाल के मुर्शिदाबाद और केरल के एर्नाकुलम के विभिन्न हिस्सों में छापेमारी हुई और कुल 9 आतंकी पकड़े गए जिसमें की 6 बंगाल से और 3 केरल से गिरफ्तार किए गए।

NIA के हाथ लगी बड़ी सफलता

पकड़े गए सभी संदिग्धों की उम्र महज़ 20-22 वर्ष है। बताया जा रहा है कि वो सब वहाँ रहकर मजदूरी का काम कर रहे थे लेकिन उसकी आड़ में काम अलकायदा के लिए हो रहा था। इन सभी आतंकियों का संपर्क सोशल मीडिया के तहत अलकायदा से हुआ था, पाकिस्तान में बैठे हैंडलर के इशारे पे हो रहा था ये सारा काम

आरोपियों के पास से मिले कई सबूत

9 Al Qaeda terrorists arrested by NIA

इंटेलीजेंस से इनपुट मिलने के बाद से ही इनकी गतिविधियों पे नज़र रखी जा रही थी और फिर आख़िरकार शनिवार को आतंकियों की गिरफ्तारी हो गयी। इनके पास से मिलने वाली चीज़ों में दस्तावेज़ , जिहादी पुस्तकें (Jihadi books) , देशी और धारदार हथियार (weapons) और साथ ही साथ ऐसे डॉक्यूमेम्ट्स भी मिले हैं जिनमें घर पर ही विस्फोटक तैयार करने की विधि लिखी है। इनका मुख्य उद्देश्य मज़लूमों की जान लेना बताया गया है।

जानकारी के मुताबिक, एनआईए को पश्चिम बंगाल और केरल समेत देश के विभिन्न हिस्सों में अलकायदा के अंतरराज्यीय मॉड्यूल के बारे में पता चला था, यह ग्रुप मज़लूमों की जान लेने के उद्देश्य से भारत में महत्वपूर्ण स्थानों पर आतंकी हमलों की साजिश रच रहा था।

सोशल मीडिया के माध्यम से आरोपी लेते थे ट्रेनिंग

गिरफ्तार किए गए संदिग्धों के नाम मुर्शीद हसन, याकूल बिस्वास,अतितुर रहमान,मोर्शफ हुसैन, नजमुस साकिब, अबू सूफियान, मैनुल मंडल, लियू यीन अहमद और अल मामून कमाल है। एनआईए ने बताया कि शुरुआती जांच के मुताबिक, इन लोगों को सोशल मीडिया के माध्यम से ट्रेनिंग मुहैया कराई जा रही थी, आसान शब्दों में कहें तो (आतंकियों का वर्क फ्रॉम होम)। पाकिस्तान में बैठा हैंडलर उन्हें साजिश को अंजाम देने के लिए प्रेरित कर रहा था। इनका मॉड्यूल काफ़ी दिनों से धन जुटाने में लगा था और इनके कुछ सदस्य दिल्ली जाने वाले थे गोलाबारूद की ख़रीददारी के लिए।

निया ने फेल किए नापाक इरादे

NIA ने अपनी समझदारी और सूझबूझ से इनके मंसूबों पे पानी फ़ेर दिया और 9 आतंकियों को गिरफ्तार कर लिया। केरल से आतंकियों की गिरफ्तार होना नई बात नहीं है। इससे पहले भी केरल से आतंकी गतिविधियों में लिप्त होने वाले युवकों की खबरें आती रही है।

अब NIA की मुख्य प्राथमिकता इन संदिग्धों को रिमांड में लेना और कोर्ट में पेश करना है ताकि जल्दी से आगे की जाँच भी पूरी हो सके।

आगे पढ़ें

Mahima Nigam

Mahima Nigam

महिमा एक चंचल स्वभाव कि लड़की है और रियल लाइफ में खेलकूद करने के साथ इन्हें शब्दों के साथ खेलना भी काफी पसंद है। बता दें कि इस वेबसाइट को शुरू करने का सपना भी महिमा का है और उसे मंज़िल तक पहुंचाने का भी। उम्मीद करते हैं कि आप साथ देंगे