नवरात्रि 2020: विशाल है मां कालरात्रि का रूप, तीसरे नेत्र में दिखाई देता है ब्रह्मांड

नवरात्रि 2020: विशाल है मां कालरात्रि का रूप, तीसरे नेत्र में दिखाई देता है ब्रह्मांड
▶️आज नवरात्रि का सातवां दिन है, इस दिन देवी दुर्गा के सातवें स्‍वरूप यानि मां कालरात्रि (Kalratri) की पूजा की जाती है
▶️माता काली ने ही अपना विशाल रूप धारण कर दानव मधु कैटभ वध किया था
▶️जब जब धरती पर पापियों का अत्याचार बढ़ जाता है तब तब मां कालरात्रि अपने इसी रूप से दानवों को धूल चटाती हैं

Navratri 2020 Seventh Day: देखते ही देखते नवरात्रि का छठा दिन भी बीत गया और आज नवरात्रि का सातवां दिन (7th Day Of Navratri 2020) है, इस दिन देवी दुर्गा के सातवें स्‍वरूप यानि मां कालरात्रि (Maa Kalratri) की पूजा की जाती है। कहते हैं माता कालरात्रि का स्वभाव बेहद गुस्से वाला है लेकिन अपने भक्तों के लिए देवी का मन बेहद कोमल है।

माता कालरात्रि का आगमन

मां कालरात्रि को शत्रु और दुष्‍टों का नाश करने के लिए भी जाना जाता है, माता काली ने ही अपना विशाल रूप धारण कर दानव मधु कैटभ वध (Danav Madhu-Kaitabha Vadh Katha) किया था। मान्यता है कि जो भी व्यक्ति माता काली की पूरे विधि विधान से पूजा करता है उसे कभी भी भूत, प्रेत का भय नहीं रहता है।

On The 7th Day Of Navratri Maa Kaalratri Is Worshiped

भयंकर है मां कालरात्रि का स्वरूप

मां दुर्गा के सातवां स्वरूप (7th Form Of Maa Durga) बेहद भयंकर है, लंबे काले घने बाल, लंबी जीभ, बड़ी-बड़ी आंखे, विशाल शरीर और गले में कंकाल की माला पहने माता का ये रूप देखकर ही दानव मां के चरणों में गिर पड़ते हैं। वैसे तो मां का ये स्वरूप भयंकर है लेकिन ये केवल दुष्टों के लिए है, जब जब धरती पर पापियों का अत्याचार बढ़ जाता है तब तब मां कालरात्रि (Maa Kalratri Ki Puja) अपने इसी रूप से दानवों को धूल चटाती हैं।

मान्यता के अनुसार भक्तजनों के लिए मां का ये स्वरूप शुभ फल देने वाला है। मां के शरीर का रंग अमावस की रात्रि से भी ज्यादा काला है बिल्कुल काजल के समान है लेकिन फिर भी माता मध्य रात्री में भी अद्भुत दिखाई देती हैं।

त्रिनेत्री हैं माता कालरात्रि

मां काली को त्रिनेत्री (Maa Trinetri) भी कहा जाता है क्योंकि इनके तीन नेत्र हैं जिसमें संपूर्ण संसार दिखाई देता है। कहते हैं मां काली (Maa Kali) को गुड़ बेहद पसंद है इसलिए पूजा के समय गुड़ का भोग ज़रूर लगाएं। साथ ही मां कालरात्रि की पूजा करते समय लाल रंग का वस्त्र पहनें। ऐसा करने से माता खुश होती हैं और भक्तों को मनवांछित फल देती हैं।

आगे पढ़ें-

Juli Kumari

Juli Kumari

जूली एक सिंपल सी लड़की है जिसे खुद सजना और ख़बरों को अपने शब्दों से सजाना बेहद पसंद है। जूली को राजनीति, लाइफस्टाइल और कविताएं लिखने का भी काफी शौक है। आप The Toss News में जूली के लिखे हुए लेखों को पढ़ सकते हैं और पसंद आए तो शेयर भी कर सकते हैं। और एक राज़ की बात बताऊं? कमेंट कर के या हमारे Social Media Platforms पर मेकअप और हेयरस्टाइल टिप्स भी ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *