फेक टीआरपी की जाल में फंसा रिपब्लिक भारत, 2 आरोपी हुए गिरफ्तार

फेक टीआरपी की जाल में फंसा रिपब्लिक भारत, 2 आरोपी हुए गिरफ्तार
▶️मुंबई पुलिस ने फॉल्स टीआरपी रैकेट पर से पर्दा उठा दिया है जिसमें चैनल रिपब्लिक भारत सहीत 3 चैनलों को समन भेजा गया है
▶️पुलिस कमिश्नर ने बताया कि टीआरपी के आधार पर विज्ञापन के रेट पर काम किया जाता है औऱ करीब 30 से 40 हजार करोड़ का विज्ञापन इंडस्ट्री में आता है
▶️रिपब्लिक टीवी के लिए लोगों ने इस बात को कबूल लिया की उन्हे ये चैनल देखने के लिए पैसे दिए जाते थे

Republic Bharat Fake TRP: इन दिनों मीडिया को लेकर काफी चर्चा चल रही है। हाल ही में सूचना प्रसारण मंत्री ने भी कहा कि पत्रकारिता में सुधार की ज़रूरत है, इसी बीच मुंबई पुलिस ने फॉल्स टीआरपी रैकेट (False TRP Racket Caught by Mumbai Police) पर से पर्दा उठा दिया है जिसमें चैनल रिपब्लिक भारत (Summon To Republic Bharat) सहीत 3 चैनलों को समन भेजा गया है।

फेक टीआरपी में फंसा रिपब्लिक भारत

बता दें कि चैनलों को समन भेजने के अलावा टीआरपी के पीछे भागने वालों में 2 गिरफ्तारी (2 Accused Arrested In Fake TRP Case) भी हो चुकी है। इस मामले पुलिस ने कहा कि कुछ एक चैनल्स पुलिस के खिलाफ काम कर रहे हैं और इतना ही नहीं ये लोग पैसा लेकर फॉल्स टीआरपी के पीछे भाग रहे हैं।

पुलिस ने किया फॉल्स टीआरपी का भांडाफोड़

इस बारे में मुंबई पुलिस (Mumbai Police) का कहना है कि हमें सुचना मिली है कि कई चैनल्स पुलिस के खिलाफ कई तरह का एजेंडा चला रहे हैं, जब इसकी जांच हुई तो अब तक 2 गिरफ्तारी हो चुकी है और 3 को समन भी भेजे जा चुके हैं।

Fake TRP Case: Summon To Republic Bharat

टीआरपी के आधार पर तय होते हैं विज्ञापन के रेट

एक पुलिस कमिश्नर ने बताया कि टीआरपी के आधार पर विज्ञापन के रेट (Advertisement Rate Depends On TRP) पर काम किया जाता है औऱ करीब 30 से 40 हजार करोड़ का विज्ञापन इंडस्ट्री में आता है जिसका गलत इस्तेमाल किया जा रहा है।

चैनल देखने के लिए दिए जाते थे रिश्वत

मिली जानकारी के अनुसार छानबीन में 2 लोग गिरफ्तार हुए हैं जिनकी हिरासत मिल गई है। ये लोग कुछ घरों को रिश्वत देते थे औऱ अपना चैनल देखने के लिए कहते थे। इसके अलावा कई जगहों पर अंग्रेजी चैनल देखने के लिए भी मजबूर किया गया है। पुलिस ने ये भी कहा कि रिपब्लिक टीवी (Republic TV) के साथ भी ऐसा ही है छानबीन में लोगों ने इस बात को कबूल लिया की उन्हे ये चैनल देखने के लिए पैसे दिए जाते थे।

आगे पढ़ें-

Juli Kumari

Juli Kumari

जूली एक सिंपल सी लड़की है जिसे खुद सजना और ख़बरों को अपने शब्दों से सजाना बेहद पसंद है। जूली को राजनीति, लाइफस्टाइल और कविताएं लिखने का भी काफी शौक है। आप The Toss News में जूली के लिखे हुए लेखों को पढ़ सकते हैं और पसंद आए तो शेयर भी कर सकते हैं। और एक राज़ की बात बताऊं? कमेंट कर के या हमारे Social Media Platforms पर मेकअप और हेयरस्टाइल टिप्स भी ले सकते हैं।