दिल्ली सरकार का बड़ा फैसला कोरोना काल में स्कूल नहीं बढ़ा सकते फीस, ट्यूशन फीस के अलावा कोई फीस नहीं

दिल्ली सरकार का बड़ा फैसला कोरोना काल में स्कूल नहीं बढ़ा सकते फीस, ट्यूशन फीस के अलावा कोई फीस नहीं
▶️निजी स्कूलों की मनमानी फीस पर दिल्ली सरकार की बड़ी कार्रवाई
▶️शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया बोले- कोई स्कूल नहीं बढ़ा सकता फ़ीस
▶️दिल्ली के नामी संस्कृति स्कूल के खिलाफ कार्रवाई

Delhi School Fees News: कोरोना महामारी के कारण लंबे समय तक कामकाज ठप रहा। जिसका सीधा प्रभाव लोगों की आर्थिक स्थिति पर पड़ना स्वाभाविक हैं। लोगों की इसी परेशानी को देखते हुए, दिल्ली सरकार ने स्कूलों की फीस पर बड़ा फैसला लिया है।

ट्यूशन फीस के अलावा अन्य फ़ीस नहीं लेंगे स्कूल

दिल्ली सरकार ने निजी स्कूलों की फीस को लेकर बड़ा फैसला लिया हैं। जिसके अनुसार महामारी के दौरान किसी भी स्कूल को फीस बढ़ाने की इजाजत नहीं है। इसके साथ ही निजी स्कूलों को केवल ट्यूशन फीस लेने की अनुमति हैं। स्थितियां सामान्य होने के बाद स्कूलों को मासिक आधार पर वार्षिक और विकास शुल्क आनुपातिक रूप से वसूलने के आदेश हैं। सभी निर्देश 1 सितंबर से लागू है।

school fees updates in hindi

चाणक्यपुरी के संस्कृति स्कूल के खिलाफ कार्रवाई

दिल्ली के उपमुख्यमंत्री और शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया ने प्रेस से बातचीत करते हुए बताया कि, चाणक्यपुरी स्थित संस्कृति स्कूल के बच्चों के माता-पिता मुझसे मिलने आए थे। अभिभावकों ने शिकायत करते हुए शिक्षा मंत्री को बताया कि संस्कृति स्कूल द्वारा पिछले कुछ दिनों में 83% तक फीस बढ़ा दी गई है। मनीष सिसोदिया द्वारा इस मामले में तुरंत कार्रवाई करते हुए संस्कृति स्कूल को सख्त आदेश दिए। जिसके पश्चात संस्कृति स्कूल द्वारा फीस बढ़ोतरी के फैसले को वापस लिया गया।

सिसोदिया बोले- सरकार द्वारा अभिभावकों के हित में बड़ा फैसला

दिल्ली सरकार द्वारा निजी स्कूलों के खिलाफ लिए गए फैसले के बाद, शिक्षा मंत्री मनीष सिसोदिया का ट्वीट सामने आया। ट्वीट में मनीष सिसोदिया, सरकार द्वारा निजी स्कूलों के अध्यापकों के लिए अहम फैसला बताते हैं। प्राइवेट स्कूलों को आदेश देते हुए लिखते हैं, ‘कोई भी स्कूल ट्यूशन फीस के अलावा पैसा ना ले और जिन विद्यार्थियों से अतिरिक्त फीस ली गई है उसे आगे आने वाले महीने की फीस में ऐडजस्ट करना होगा।’ कोरोना महामारी के दौरान आर्थिक स्थिति से जूझ रहे अभिभावकों के लिए दिल्ली सरकार का यह फैसला राहत भरा हैं।

Juli Kumari

Juli Kumari

जूली एक सिंपल सी लड़की है जिसे खुद सजना और ख़बरों को अपने शब्दों से सजाना बेहद पसंद है। जूली को राजनीति, लाइफस्टाइल और कविताएं लिखने का भी काफी शौक है। आप The Toss News में जूली के लिखे हुए लेखों को पढ़ सकते हैं और पसंद आए तो शेयर भी कर सकते हैं। और एक राज़ की बात बताऊं? कमेंट कर के या हमारे Social Media Platforms पर मेकअप और हेयरस्टाइल टिप्स भी ले सकते हैं।