रिया चक्रवर्ती को कैसे मिली जमानत?

रिया चक्रवर्ती को कैसे मिली जमानत?
▶️ रिया चक्रवर्ती को ड्रग मामले में एक महीने बाद जेल से मिली सशर्त बेल
▶️ एनडीपीएस एक्ट के धारा 27ए में दोषी नहीं पाई गई रिया चक्रवर्ती
▶️ रिया चक्रवर्ती को 10 दिन तक सुबह 11 बजे रोजाना नजदीकी पुलिस स्टेशन में लगानी होगी हाजिरी

Rhea Chakraborty Bail From NDPS Act 27A : लंबी कार्रवाई और कई विवादों के बाद आखिरकार ड्रग्स मामले में अभिनेत्री रिया चक्रवर्ती (Rhea Chakraborty Bail From Drug Case) को अदालत से शर्तों के साथ बेल मिली हैं। रिया चक्रवर्ती के वकील ने अदालत के सामने साबित कर दिया कि रिया धारा 27 ए के तहत दोषी नहीं है। हालांकि रिया को जमानत के बाद भी अदालत की शर्तों का पालन करना पड़ेगा।

वकील सतीश मानशिंदे ने रिया को दिला ही दी जमानत

सुशांत सिंह मौत (Sushant Case Drug Angle) के बाद सामने आया ड्रग्स मामले में 7 अक्टूबर को बॉम्बे हाईकोर्ट से रिया चक्रवर्ती के लिए राहत की खबर सामने आई। रिया चक्रवर्ती के वकील सतीश मानशिंदे ने अदालत के सामने रिया पर NDPS के तहत लगाए गए एक्ट 27ए को गलत साबित कर दिया।

जज ने कहा कि रिया ड्रग डीलर का हिस्सा नहीं थी। उन्होंने पैसे कमाने या किसी और अन्य उद्देश्य के लिए ड्रग को आगे नहीं बढ़ाया था। रिया का कोई क्रिमिनल रिकॉर्ड भी नहीं है। अदालत मानती हैं कि रिया जमानत के दौरान कोई अपराध नहीं करेंगी।

Rhea Chakraborty Bail From NDPS ct 27A

क्या है धारा 27A?

वर्ष 1985 में विभिन्न नारकोटिक ड्रग कानूनों (Narcotic Drug Laws) की जगह एनडीपीएस एक्ट (NDPS Act) लाया गया था। इस एक्ट को लाने का उद्देश्य नशीले पदार्थों की मात्रा के आधार पर जेल और जमानत तय करना था।

साल 1989 में इस एक्ट के प्रावधानों को और कड़ा किया गया था। ‘अवैध लेनदेन की फाइनेंसिंग’ के लिए एक्ट में धारा 27ए जोड़ दी गई थी। 27ए के तहत अवैध रूप से नशीली पदार्थों का उत्पादन करना, रखना, बेचना, खरीदना, एक स्थान से दूसरे स्थान तक ले जाना, जमा करना, इस्तेमाल करना सब आता हैं। रिया चक्रवर्ती के ऊपर भी इसी धारा के तहत कार्रवाई की जा रही थी। जिस कारण रिया चक्रवर्ती जेल में थी।

2001 में एनडीपीएस एक्ट के तहत ड्रग्स की मात्राओं को तीन श्रेणी में बांटा गया है।

  1. छोटी मात्रा इसके तहत दोषी पाए जाने पर 1 साल की सजा या 10 हजार तक का जुर्माना या दोनों ही हो सकती हैं।
  2. कारोबारी मात्रा इसके अंतर्गत दोषी पाए जाने पर 10 से 20 साल तक कारावास और एक से दो लाख तक का जुर्माना भी हो सकता है।
  3. छोटी और कारोबारी के बीच की मात्रा- अगर इसके अंतर्गत अपराधी दोषी माना जाता हैं तो 10 साल तक का कठोर कारावास और एक लाख का जुर्माना भी हो सकता है।

एक्ट के अंतर्गत नशाखोरी के लिए भी सजा का प्रावधान है। नशा करने को इस एक्ट के अंतर्गत जुर्म कहा गया है। अगर आप नशा (NDPS Punishment For Drug Use) करते हुए पकड़े जाते हैं तो 6 महीने से 1 साल तक की सजा हो सकती है। हालांकि इसमें एक महत्वपूर्ण शर्त यह भी है कि अगर नशा करने वाला व्यक्ति अपना इलाज कराना चाहता है तो उसे धारा 64ए के तहत छूट मिल जाती है।

Rhea Chakraborty got bail from NDPS Act 27A

रिया को इन शर्तों का करना होगा पालन

बुधवार को बॉम्बे हाईकोर्ट ने रिया को एक लाख निजी जुर्माने के साथ जमानत दे दी थी। इसके साथ ही अदालत ने रिया के सामने कई शर्ते (Conditions Of Rhea Chakraborty Bail) भी रखी। अदालत ने कहा, रिया को अपना पासपोर्ट जमा करना होगा। मुंबई से बाहर जाने के लिए कोर्ट से मंजूरी लेनी होगी। रिया को 10 दिन तक रोजाना नजदीकी पुलिस स्टेशन में अपनी हाजिरी दर्ज करनी होगी। महीने में कम से कम एक बार एनसीबी के दफ्तर भी जाना होगा। दूसरी ओर एनसीबी का कहना है कि बहुत इस मामले को सर्वोच्च अदालत के सामने लेकर जाएगी।

आगे पढ़ें-

Manoj Thayat

Manoj Thayat

पत्रकारिता मनोज का जुनून है। इसी जुनून को जीने के लिए और अपने तरीके से ख़बरों को आप तक पहुँचाने के लिए मनोज The Toss News के साथ जुड़े हैं। मनोज को पढ़ने, लिखने और संवाद करने का बेहद शौक है। देश-दुनिया की ख़बरों को आप तक समय-समय पर पहुँचाना मनोज का लक्ष्य है। आप सभी रोज़ाना मनोज द्वारा लिखी गईं ख़बरें पढ़ सकते हैं और Comment में अपना Feedback भी दे सकते हैं।