दफ्तर ध्वस्त होने को लेकर कंगना ने हाईकोर्ट में दायर की अर्जी, CRPF सुरक्षा के साथ मुंबई पहुंची एक्ट्रेस

दफ्तर ध्वस्त होने को लेकर कंगना ने हाईकोर्ट में दायर की अर्जी, CRPF सुरक्षा के साथ मुंबई पहुंची एक्ट्रेस
▶️BMC ने कंगना का दफ्तर जो बांद्रा वेस्ट के पाली हिल रोड पर स्थित है उसपर बुलडोज़र चलवा दिया है
▶️कंगना के दफ्तर को तोड़ने को लेकर एक्ट्रेस ने हाई कोर्ट में अर्जी भी दायर की है, जिसपर सुनवाई शुरू हो चुकी है
▶️कोर्ट ने कहा था कोरोना संक्रमण काल के कारण 30 सितंबर तक किसी भी निर्माण को ध्वस्त करने की इजाज़त नहीं है

BMC Demolishes Kangana Ranaut’s Office: कई दिनों से अभिनेत्री कंगना रानौत औऱ शिवसेना के बीच ज़ुबानी जंग चल रही है। ऐसे में उद्धव ठाकरे सरकार पर उठ रहे सवाल से शिवसेना बौखला गई है और कंगना से बदला लेने की पूरी तैयारी कर चुकी है। दरअसल ठाकरे सरकार ने कंगना के मुंबई स्थित घर को ध्वस्त करवा दिया है।

ठाकरे सरकार ने लिया कंगना से बदला

Thackeray Government’s Revenge

बता दें कि BMC ने कंगना का दफ्तर जो बांद्रा वेस्ट के पाली हिल रोड पर स्थित है उसपर बुलडोज़र चलवा दिया है। अवैध निर्माण (illegal construction) का हवाला देकर कंगना रनौत के 48 करोड़ के आलिशान ऑफिस को तोड़ दिया गया है। इस पर कंगना ने BMC के टीम को बाबर की सेना बताया है। आपको बता दें कि कंगना बस कुछ ही देर में मुंबई पहुंचने वाली हैं।

कंगना ने कोर्ट में दायर की अर्जी

कंगना के दफ्तर को तोड़ने को लेकर एक्ट्रेस ने हाई कोर्ट (High Court) में अर्जी भी दायर की है। जिसपर सुनवाई का काम चालू हो चुका है। कंगना फिलहाल इस सुनवाई में शामिल नहीं हो सकी हैं लेकिन उनकी तरफ से कंगना रनौत के वकील रिजवान सिद्दीकी (lawyer Rizwan Siddiqui) वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सुनवाई में शामिल होंगे। इस मामले में कंगना का कहना है कि कोई अवैध निर्माण नहीं हुआ है।

कोरोना के कारण कोई भी निर्माण ध्वस्त नहीं किया जाएगा

आपको बता दें कि कंगना रनौत की तरफ से अर्जी में कहा गया है कि उनके दफ्तर में कोई अवैध निर्माण नहीं है, औऱ कोर्ट के ऐलान को माने तो कोरोना संक्रमण काल के कारण 30 सितंबर तक किसी भी निर्माण को ध्वस्त करने की इजाज़त नहीं है।

दरअसल कंगना की ये अर्जी पूरी तरह से सही और सटीक है। क्योंकि हाल ही में 15 जुलाई को मुंबई हाईकोर्ट (Mumbai High Court) की औऱ से फैसला लिया गया था कि कोरोना संक्रमण (coronavirus infection) की वजह से 30 सितंबर तक किसी भी तरह के निर्माण को ध्वस्त नहीं किया जाएगा। ऐसे में शिवसेना ने कोर्ट के फैसले की अवहेलना करते हुए कंगना के दफ्तर को अवैध निर्माण का हवाला देकर ध्वस्त कर दिया है।

बाबर की सेना है ठाकरे सरकार- कंगना

अपने खून-पसीने से बना दफ्तर को बेरहमी से टूटता देख कंगना रनौत ने बीएमसी के कर्मचारियों की तुलना बाबर (Uddhav Thackeray is Babar) की सेना से की है, औऱ अपने दफ्तर को मंदिर बताया। दरअसल कंगना के बेबाक बोल से शिवसेना को इतनी मिर्ची लगी है खासकर संजय राउत को कि वो किसी भी सूरत में कंगना से बदला लेना चाहते हैं। साथ ही बदले की आग में उन्होने कोर्ट के फैसले को भी नजरअंदाज कर दिया है। फिलहाल कोर्ट में कंगना की अर्जी पर सुनवाई चल रही है।

आगे पढ़ें-

Juli Kumari

Juli Kumari

जूली एक सिंपल सी लड़की है जिसे खुद सजना और ख़बरों को अपने शब्दों से सजाना बेहद पसंद है। जूली को राजनीति, लाइफस्टाइल और कविताएं लिखने का भी काफी शौक है। आप The Toss News में जूली के लिखे हुए लेखों को पढ़ सकते हैं और पसंद आए तो शेयर भी कर सकते हैं। और एक राज़ की बात बताऊं? कमेंट कर के या हमारे Social Media Platforms पर मेकअप और हेयरस्टाइल टिप्स भी ले सकते हैं।