भारत ने चीन को लौटाया उसका सैनिक

भारत ने चीन को लौटाया उसका सैनिक
▶️ 19 अक्टूबर को पूर्वी लद्दाख के डेमचोक इलाके में पकड़ा गया था चीनी सैनिक
▶️ मंगलवार देर रात चुशूल मोल्दो के बैठक स्थल पर चीन को सौंपा गया उसका सैनिक
▶️ भारतीय सैनिकों ने चीनी सैनिक को मेडिकल सुविधा के साथ खाना और गर्म कपड़े भी दिए

Lost Chinease Soldier Send Back To China: भारत और चीन के बीच इस साल के शुरुआत से ही तनाव की स्थिति बनी हुई है। जून महीने में गलवान घाटी (India-China Galwan Valley Dispute) में चीनी सैनिकों से झड़प में 20 भारतीय जवान शहीद हो गए थे। जिसके बाद से भारत ने भी चीन के प्रति अपना कड़ा रुख अपनाया। रक्षा मंत्री, विदेश मंत्री स्तर की तमाम बैठकें हुई लेकिन कोई खास नतीजा निकला नहीं। कुछ दिन पहले LAC के पास से भारतीय सैनिकों ने एक चीनी सैनिक को पकड़ा था। मंगलवार रात अंतरराष्ट्रीय नियमों के तहत भारत ने चीन के सैनिक को लौटा दिया है।

चीनी सैनिक को चीन को लौटाया, क्या था मामला

19 अक्टूबर 2020, भारतीय सेना (Indian Army) के जवानों द्वारा पूर्वी लद्दाख के डेमचोक इलाके (Demchok Area East Ladakh) में चीन की पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (PLA) के सैनिक को हिरासत में लिया था। चीनी सैनिक की पहचान कॉर्पोरल वांग या लांग के रूप में हुई। भारतीय सैनिकों ने मिसाल पेश करते हुए चीनी सैनिक को खाने, गर्म कपड़ों के साथ मेडिकल सुविधा भी उपलब्ध करवाई।

Indian Soldiers Returns Chinease Troop Back To China

भारत को चीनी सैनिक पर जासूसी का शक था लेकिन चीन द्वारा बताया गया कि सैनिक चारागाह का याक ढुंढने में मदद करते समय रात्रि में भटक जाने के कारण भारतीय सीमा (Indian Border) के करीब पहुंच गया। मंगलवार देर रात अंतरराष्ट्रीय नियमों के तहत चीनी सैनिक को चीन को सौंप दिया गया है।

क्या है अंतरराष्ट्रीय नियम?

किसी देश की सीमा पर अगर दूसरे देश का सैनिक पकड़ा जाता है तो उस समय कुछ अंतरराष्ट्रीय नियम लागू होते हैं। जिसके बाद सैनिक को उसके देश को सौंप दिया जाता है। अंतरराष्ट्रीय नियम (International Border Laws) के मुताबिक, शांति काल यानि युद्ध समय को छोड़कर अगर किसी देश का सैनिक दूसरे देश की सीमा में प्रवेश कर जाता है। सर्वप्रथम उसकी तलाशी ली जाती है और पकड़े गए शख्स की पहचान की जाती है। जिसके बाद शख्स के देश को इस मामले की सूचना दी जाती है। जब दोनों देश बातचीत से पूरी तरह संतुष्ट हो जाते हैं तो फिर पकड़े गए सैनिक को उसके देश को सौंप दिया जाता है।

भारतीय सैनिकों (Indian Soliders Returns Chinease Troops To China) द्वारा जिस तरह चीनी सैनिक की मदद की गई। खाने और कपड़ों के साथ चीनी सैनिक को मेडिकल सुविधाएं भी उपलब्ध कराई। कहीं ना कहीं अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भारतीय सैनिकों ने एक मिसाल पेश करते हुए चीन को भी एक संदेश भी दिया है।

आगे पढ़ें-

Manoj Thayat

Manoj Thayat

पत्रकारिता मनोज का जुनून है। इसी जुनून को जीने के लिए और अपने तरीके से ख़बरों को आप तक पहुँचाने के लिए मनोज The Toss News के साथ जुड़े हैं। मनोज को पढ़ने, लिखने और संवाद करने का बेहद शौक है। देश-दुनिया की ख़बरों को आप तक समय-समय पर पहुँचाना मनोज का लक्ष्य है। आप सभी रोज़ाना मनोज द्वारा लिखी गईं ख़बरें पढ़ सकते हैं और Comment में अपना Feedback भी दे सकते हैं।