PM ओली और प्रधानमंत्री मोदी के बीच हो सकती है बैठक, इन मुद्दों पर होगा चर्चा

PM ओली और प्रधानमंत्री मोदी के बीच हो सकती है बैठक, इन मुद्दों पर होगा चर्चा
निलाम्बर आचार्य ने कहा कि भारत और नेपाल के बीच अच्छे और मित्रता के सम्बन्ध है ।
काठमांडू ने कालापानी क्षेत्र को शामिल करने का दावा किया।
पिछले दिनों, दोनों देशों में भगवान राम और गौतम बुद्ध की उत्पत्ति पर सवाल खड़े किये गए थे।

India-Nepal Meeting: सूत्रों के अनुसार, नेपाल के प्रधानमंत्री ओली ने शुक्रवार को प्रधानमंत्री मोदी से बातचीत की थी। बातचीत के दौरान PM ओली ने PM मोदी को 74th स्वतंत्रता दिवस (74th Independence Day) के लिए और भारत को UN सिक्योरिटी कॉउंसिल के नॉन परमानेंट मेंबर के रूप में चुने जाने के लिए बधाई दी।

दोनों देश के नेताओं ने कोरोना संकट (Corona Crisis) पर भी बातचीत करते हुए एक दूसरे को कोरोना के संकट को कम करने पर भी आपसी समझ व्यक्त की।

भारत और नेपाल के बीच कालापानी को लेकर लड़ाई क्यों?

नवंबर 2019 में, जब भारत ने जम्मू कश्मीर और लद्दाख के बनाए गए नए केंद्र शासित प्रदेशों का संशोधित राजनीतिक नक़्शे  दिखाया था, तब इस विवाद का प्रारम्भ हुआ था। भारत और नेपाल दोनों कालापानी (Bharat-Nepal Kalapani Vivad) का दावा करते हैं। नक्शे के अनुसार, कालापानी को पिथौरागढ़ जिले के हिस्से के रूप में दिखाया गया है। नेपाल ने इस पर विरोध किया गया है।

 8 मई को, भारत ने विवादित कालापानी क्षेत्र को काटते हुए दारचुला-लिपुलेख दर्रा लिंक रोड का उद्घाटन किया, जिसका उपयोग भारतीय तीर्थयात्री कैलाश मानसरोवर (Indian Kailash Mansarovar) के लिए करते हैं। इस पर नेपाल ने, भारतीय राजदूत विनय मोहन क्वात्रा को नेपाल में बुलाकर विरोध प्रकट किया। कालापानी क्षेत्र भारत के नियंत्रण में है, लेकिन नेपाल ऐतिहासिक और कार्टोग्राफिक कारणों से इसका नेपाल में होने का दावा करता है। यह क्षेत्र नेपाल और भारत (India-Nepal Meeting) के बीच सबसे बड़ा क्षेत्रीय विवाद है।

PM Oli and Narendra Modi can meet today to discuss border issue
Source : Google image

पिछले दिनों, दोनों देशों में भगवान राम और गौतम बुद्ध की उत्पत्ति पर सवाल खड़े किए गए थे।

कालापानी विवाद (Bharat-Nepal Kalapani Vivad) के बाद पहली बार, भारत और नेपाल हिमालयी राष्ट्र में सभी द्विपक्षीय आर्थिक और विकासात्मक परियोजनाओं की समीक्षा के लिए आज “निगरानी तंत्र” के तहत वार्ता करेंगे।

आज भारत और नेपाल के बीच होगी उच्च स्तरीय बैठक

दोनों देशो की सीमाओं में हुए टकराव के बाद आज दोनों देशों के नेताओं के बीच बातचीत होगी। जिसमे उन्होंने अपने निरिक्षण तंत्र पर बात करने की संभावना है। 17 अगस्त की बैठक (India-Nepal Meeting) काठमांडू में होनी है, जहां नेपाल का  नेतृत्व विदेश सचिव शंकर दास बैरागी (Shankar Das Bairagi) करेंगे, जबकि भारतीय पक्ष का नेतृत्व राजदूत विनय मोहन क्वात्रा (Vinay Mohan Katra) करेंगे। बैठक कोविड-19 महामारी की स्थिति को देखते हुए वीडियोकांफ्रेंस के माध्यम से होने की संभावना है। इस मीटिंग के दौरान कालापानी विवाद पर भी चर्चा हो सकती है।

आगे की खबर के लिए बने रहे The Toss News के साथ

ये भी पढ़े :

Omkar Bhaskar

Omkar Bhaskar