कृषि अध्यादेशों के विरोध में किसानों का ‘भारत बंद’, जानिए किन राजनीतिक पार्टियों का किसानों को मिला समर्थन

कृषि अध्यादेशों के विरोध में किसानों का ‘भारत बंद’, जानिए किन राजनीतिक पार्टियों का किसानों को मिला समर्थन
▶️देशभर के किसान संगठनों का 25 सितंबर को भारत बंद का ऐलान, रेल रोको, चक्का-जाम प्रदर्शन
▶️केंद्र सरकार द्वारा लाए गए कृषि अध्यादेशों का हरियाणा, पंजाब और वेस्ट यूपी में सर्वाधिक विरोध
▶️किसान और किसान संगठनों को विपक्ष की राजनीतिक पार्टियों का भी मिल रहा है समर्थन

Bharat Band: मोदी सरकार द्वारा किसानों से जुड़े तीन विधेयक लाए जाते हैं। इन तीनों अध्यादेशों का संसद के भीतर विपक्षी पार्टियां और संसद के बाहर खास तौर पर पंजाब और हरियाणा के किसानों द्वारा जमकर विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। आज यानी 25 सितंबर को देशभर के कृषि संगठनों द्वारा ‘भारत बंद’ (bharat band) का ऐलान किया गया है।

आज किसानों का ‘Bharat Band’ प्रदर्शन

केंद्र सरकार द्वारा लाए गए तीनों कृषि अध्यादेश (Farm Bill 2020) संसद के दोनों सदनों से पारित हो चुके हैं। लेकिन इन कृषि अध्यादेशों के खिलाफ विरोध प्रदर्शन जारी है। आज पंजाब और हरियाणा समेत देशभर के किसानों ने भारत बंद का आह्वान किया है। विरोध प्रदर्शन सर्वाधिक पंजाब और हरियाणा राज्य में हो रहे हैं। पंजाब राज्य के किसानों का शुरुआत से ही इन अध्यादेशों के खिलाफ विरोध जारी है।

Bharat band ke support me kisan

शनिवार तक ट्रेनें रद्द, कई परीक्षाएं टली

पंजाब राज्य किसानों के विरोध प्रदर्शनों से खासा प्रभावित नजर आ रहा है। पंजाब राज्य में शनिवार तक सभी ट्रेनें रद्द कर दी गई है। पंजाब में गुरुवार से ही रेल रोको अभियान चलाया गया था। किसान आंदोलनों के कारण पंजाब में परीक्षाएं और कई अन्य कार्यक्रम निरस्त कर दिए गए हैं। रेलवे स्टेशनों की सुरक्षा बढ़ा दी गई है। जिसके तहत राज्य में सीआरपीएफ (CRPF), पुलिस और सादी वर्दी के सुरक्षाकर्मियों की अतिरिक्त तैनाती भी कर दी गई हैं।

Punjab me bharat band par pradarshan

जानिए किन राजनीतिक दलों का किसानों को मिला साथ

देशभर में किसान संगठनों के साथ-साथ राजनीतिक दल भी इन विधेयकों के खिलाफ विरोध (Farm Bill 2020 Protest) प्रदर्शन में उतर गए हैं। पंजाब में बीजेपी पार्टी को छोड़कर अन्य सभी पार्टियों द्वारा विरोध प्रदर्शन किया जा रहा है। कांग्रेस पार्टी किसान प्रदर्शनों में शामिल होने का ऐलान कर चुकी हैं। उत्तर प्रदेश की बात करें तो समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ता चक्का जाम विरोध प्रदर्शन में शामिल हो रहे हैं। साधारण शब्दों में समझें तो, देश की अधिकतर विपक्षी पार्टियों द्वारा किसानों को समर्थन दिया जा रहा है। तमाम प्रदर्शनों के बाद महत्वपूर्ण यह होगा कि क्या इन विरोध प्रदर्शनों का सरकार पर कोई असर पड़ता है या नहीं! 

आगे पढ़ें-

Manoj Thayat

Manoj Thayat

पत्रकारिता मनोज का जुनून है। इसी जुनून को जीने के लिए और अपने तरीके से ख़बरों को आप तक पहुँचाने के लिए मनोज The Toss News के साथ जुड़े हैं। मनोज को पढ़ने, लिखने और संवाद करने का बेहद शौक है। देश-दुनिया की ख़बरों को आप तक समय-समय पर पहुँचाना मनोज का लक्ष्य है। आप सभी रोज़ाना मनोज द्वारा लिखी गईं ख़बरें पढ़ सकते हैं और Comment में अपना Feedback भी दे सकते हैं।