राम मंदिर निर्माण पर लगी रोक, अब 39 महीनों में तैयार होगा राम लला का निवास

राम मंदिर निर्माण पर लगी रोक, अब 39 महीनों में तैयार होगा राम लला का निवास
▶️महासचिव चंपत राय ने दी जानकारी, राम भक्तों को मंदिर के लिए अभी लंबे इंतजार की ज़रूरत है
▶️राम मंदिर के लिए खुदाई का काम 15 अक्टूबर के बाद ही शुरू हो सकेगा, पहले मजबूती जांच होगी
▶️बैठक में हुई बातचीत के बाद महासचिव चंपत राय ने कहा कि वो जल्दबाजी में अभी कोई काम नहीं करेगे

Delay in Ram Mandir Construction: लंबे समय के इंतजार के बाद राम मंदिर के लिए नीव तो धूमधाम से रख दी गई है। लेकिन जानकारी के अनुसार राम भक्तों को मंदिर के लिए अभी लंबे इंतजार की ज़रूरत है। हां राम मंदिर के लिए खुदाई का काम 15 अक्टूबर के ही शुरू हो सकेगा उसमें भी केवल 1 मीटर चौड़ा और 100 फ़ीट गहरा गड्ढा बनाकर कंक्रीट के लिए मलवा भरा जाएगा।

राम मंदिर के लिए करना होगा और इंतजार

जानकारी के अनुसार मजबूती के लिए जिस खंभे (pillars) को बनाया जाएगा और मसाला भरा जाएगा उसके तैयार होने के बाद उसकी जांच की जाएगी और ये जांच आईआईटी चेन्नई (IIT Chennai) की टीम करेगी जिसमें एक महीने का भी समय लग सकता है। और जांच रिपोर्ट हाथ में आने के बाद ही आगे का काम शुरू किया जाएगा।

मंदिर ट्रस्ट ने की मीटिंग

दरअसल मंदिर निर्माण का काम संभाल रहे राम मंदिर तीर्थ क्षेत्र ट्रस्ट (Ram Mandir Trust) के महासचिव चंपत राय (Champat Rai) की तरफ से मंगलवार के दिन एक बैठक बुलाई गई। इस बैठक में मंदिर के निर्माण कार्य से जुड़े कई लोग जैसे समिति के अध्यक्ष नृपेंद्र मिश्र और ट्रस्ट के कई बड़े पदाधिकारी शामिल हुए थे। सभी ने मिलकर मंदिर के कामों को लेकर काफी देर तक मीटिंग की।

People will have to wait for Ayodhya Ram temple
Image source- Amar Ujala

बैठक में हुई बातचीत के बाद महासचिव चंपत राय ने कहा कि वो जल्दबाजी में अभी कोई काम नहीं करेगे, बैठक के अनुसार अभी सिर्फ टेस्ट पाइलिंग ही हो पाई है। इसके लिए एक खंभा बनाया जाएगा और बनने के बाद पहले इसकी मजबूती की जांच की जाएगी। ये गड्ढा लगभग 100 फीट गहरा खोदा जाएगा। औऱ इसकी मजबूती रिपोर्ट (strength report) आने के बाद उम्मीद है कि अक्टूबर से काम शुरू कर दिया जाएगा।

मंदिर को लेकर कोई जल्दबाजी नहीं

महासचिव चंपत राय ने कहा कि मंदिर को लेकर कोई जल्दबाजी नहीं की जाएगी। हम मंदिर से जुड़ी हरेक छोटी-बड़ी चीजों की नियमित जांच करेंगे। हम सभी चाहते हैं कि समय थोड़ा ज्यादा लग जाए लेकिन मंदिर की बुनियाद की आयु मंदिर में लगे पत्थरों से ज्यादा हो। यही कारण है कि मजबूती की जांच की जिम्मेदारी आईआईटी चेन्नई को दी गई है। उन्होने ये भी कहा कि हो सकता है कि राम मंदिर निर्माण में 39 महीनों का समय लग जाए। लेकिन ये मंदिर बेहद भव्य बनने वाला है।

आगे पढ़ें-

Juli Kumari

Juli Kumari

जूली एक सिंपल सी लड़की है जिसे खुद सजना और ख़बरों को अपने शब्दों से सजाना बेहद पसंद है। जूली को राजनीति, लाइफस्टाइल और कविताएं लिखने का भी काफी शौक है। आप The Toss News में जूली के लिखे हुए लेखों को पढ़ सकते हैं और पसंद आए तो शेयर भी कर सकते हैं। और एक राज़ की बात बताऊं? कमेंट कर के या हमारे Social Media Platforms पर मेकअप और हेयरस्टाइल टिप्स भी ले सकते हैं।