ईद-ए-मिलाद पर जानें क्यों किसी के बस की नहीं है पैगंबर मोहम्मद की तस्वीर बनाना

ईद-ए-मिलाद पर जानें क्यों किसी के बस की नहीं है पैगंबर मोहम्मद की तस्वीर बनाना
▶️मुस्लिम धर्म के लोग पैगंबर हजरत मोहम्मद के जन्मदिन को इद-मिलाद-उन-नबी के रूप में मनाते हैं
▶️इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार ईद-मिलाद-उन-नबी 29 अक्टूबर की शाम से शुरू होगा जो 30 अक्टूबर की शाम तक चलेगा
▶️पैगंबर मोहम्मद को मूर्ति पूजा करना बिल्कुल पसंद नहीं था वो मुर्ती पूजा के बिल्कुल खिलाफ थे

भारत देश त्यौहारों का देश है, यहां हर त्यौहार को बड़े घूम-धाम से मनाया जाता है। त्यौहार आते ही सभी आपसी मतभेदों को भूलकर एक दूसरे के साथ खुशहाल समय व्यतित करते हैं, ऐसा ही एक खास दिन आज भी है। आज का दिन इस्लाम धर्म के लिए बेहद पावन और यादगार माना जाता है क्योंकि इसी दिन पैगंबर हजरत मोहम्मद का जन्म हुआ था।

पैगंबर हजरत मोहम्मद के जन्मदिन को कहते हैं ईद-ए-मिलाद

आज के दिन को सभी मुस्लिम लोग पैगंबर हजरत मोहम्मद के जन्मदिन के रूप में मनाते हैं औऱ इस दिन को ईद-ए-मिलाद-उन-नबी या ईद-ए-मिलाद का नाम दिया गया है। इस्लामिक कैलेंडर के अनुसार इस बार ईद-मिलाद-उन-नबी 29 अक्टूबर की शाम से शुरू होगा जो 30 अक्टूबर की शाम तक चलेगा। इसलिए भारत, पाकिस्तान और बांग्लादेश में 30 अक्टूबर को ही ये त्यौहार मनाया जाएगा।

कोरोना के कारण फीका रहेगा पैगंबर मोहम्मद का जन्मदिन

आपको बता दें कि ईद-मिलाद-उन-नबी के दिन मुस्लिम लोग खूब दावत करते हैं लोगों की भीड़ जमा होती है सभी मुबारकबाद देते हैं साथ हीं इस दिन पैगंबर मोहम्मद साहब को याद करते हुए जुलूस भी निकाले जाते हैं, लेकिन इस बार इन सभी कार्यों पर रोक रहेगी।

कोरोना के नियमों का ध्यान रखते हुए सभी अपने घरों में ही परिवार के साथ दावत रखेंगे औऱ पैगंबर मोहम्मद साहब को याद कर उनका जन्मदिन मनाएंगे।

कहीं भी नहीं दिखेगी पैगंबर मोहम्मद की तस्वीर

पैगंबर मोहम्मद (paigambar mohammad kaun the) के माता पिता नहीं थे उनके जन्म से पहले ही उनके पिता की मृत्यु हो गई थी जिसके बाद वो अपने चाचा के पास रहने लगे थे। पैगंबर मोहम्मद को मूर्ति पूजा करना बिल्कुल पसंद नहीं था वो मुर्ती पूजा के बिल्कुल खिलाफ थे यही कारण है कि कहीं भी उनकी तस्वीर देखने को नहीं मिलती है।

इतना ही नहीं पैगंबर मोहम्मद ने ये भी कहा था कि जो कोई भी उनकी तस्वीर बनाने की कोशिश करेगा अल्लाह उसको सजा देंगे। यही वो वजह हे जिसके कारण आज तक किसी ने पैगंबर मौहम्मद को नहीं देखा। क्योंकि इस्लाम में प्रतिमा की पूजा का चलन नहीं है।

आगे पढ़ें-

Juli Kumari

Juli Kumari

जूली एक सिंपल सी लड़की है जिसे खुद सजना और ख़बरों को अपने शब्दों से सजाना बेहद पसंद है। जूली को राजनीति, लाइफस्टाइल और कविताएं लिखने का भी काफी शौक है। आप The Toss News में जूली के लिखे हुए लेखों को पढ़ सकते हैं और पसंद आए तो शेयर भी कर सकते हैं। और एक राज़ की बात बताऊं? कमेंट कर के या हमारे Social Media Platforms पर मेकअप और हेयरस्टाइल टिप्स भी ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *