पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह से जुड़ी दिलचस्प बातें

पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह से जुड़ी दिलचस्प बातें
▶️ शांत और सादगी भरे स्वभाव वाले पूर्व प्रधानमंत्री और महान अर्थशास्त्री डॉ. मनमोहन सिंह का आज जन्मदिन
▶️ आर्थिक सुधारों, उदारीकरण, मनरेगा, आधार कार्ड, शिक्षा का अधिकार, रोजगार गारंटी जैसे तमाम बड़े फैसले मनमोहन सिंह द्वारा लिए गए
▶️ 1991 के कठिन समय में देश की अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने का काम किया, आर्थिक संकटमोचक

Dr. Manmohan Singh Birthday Special: डॉ. मनमोहन सिंह, भारत के एक ऐसे प्रधानमंत्री हैं जिन्हें कई बार तो ‘मौन’ प्रधानमंत्री तक कहा गया। कई लोगों को उनसे शिकायत थी कि मनमोहन सिंह बोलते काफी कम हैं। ‘The Toss News’ पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह (Former Prime Minister Manmohan Singh) के जन्मदिन के अवसर पर आप सभी के सम्मुख मनमोहन सिंह से जुड़ी कुछ ऐसी दिलचस्प बातें रखने जा रहा है। जिनको जानने के बाद आप चोकने के साथ ही गर्व भी महसूस करेंगे।

एक नजर जीवन परिचय पर

मनमोहन सिंह (Dr. Manmohan Singh Age) का जन्म 26 सितंबर 1932 को अविभाजित भारत के पंजाब प्रांत में हुआ था। जो विभाजन के बाद पाकिस्तान का हिस्सा है। पिता चाहते थे मनमोहन डॉक्टर बने। लेकिन डॉक्टर की पढ़ाई बीच में छोड़ने के बाद ही उन्होंने, दिल्ली विश्वविद्यालय के हिंदू कॉलेज में अर्थशास्त्र विषय में एडमिशन ले लिया। बाद में मनमोहन सिंह ने कैंब्रिज यूनिवर्सिटी (Cambridge University) से भी पढ़ाई की। 1991 के बाद से तो मनमोहन सिंह का नाम इतिहास के पन्नों में सुनहरे अक्षरों में लिखा गया है। उनसे जुड़ी तमाम दिलचस्प बातें आप नीचे विस्तार में पढ़ेंगे।

पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह से जुड़ी महत्वपूर्ण बातें.

1. आर्थिक सुधारों के पुरोधा

मनमोहन सिंह का नाम यूं ही नहीं विश्व के चुनिंदा अर्थशास्त्रियों में शामिल हैं। सन 1991 का दौर, भारत देश एक तरह से कंगाल था। तत्कालीन प्रधानमंत्री नरसिम्हा राव (Narsimha Rao) की सरकार में मनमोहन सिंह को वित्त मंत्री (Finance Minister) का पद दिया गया। उसके बाद तो मानो भारतीय अर्थव्यवस्था क्रांति आ गई। 1 साल के भीतर ही मनमोहन सिंह ने राजकोषीय घाटा 8.5 से 5.9 फीसदी दिन तक कम कर दिया। अर्थव्यवस्था के लिए उनके द्वारा चलाए गए सुधार कार्यक्रमों की बदौलत भारतीय अर्थव्यवस्था (Indian Economy) पटरी पर लौटी। डॉ सिंह को आर्थिक सुधारों का जनक भी कहा जाता है।

Manmohan Singh Birthday Special

2. उदारीकरण की शुरुआत

भारत में उदारीकरण (Globalisation) की शुरुआत का श्रेय मनमोहन सिंह को ही जाता है। उन्होंने उदारीकरण को एक प्लान के तहत प्रस्तुत किया। अर्थव्यवस्था को विश्व बाजार के साथ जोड़ने के बाद आयात और निर्यात के नियमों को सरल किया। लाइसेंस (License), परमिट की शुरुआत हुई और जो कंपनियां घाटे में चल रही थी, उनके लिए अलग नीतियां बनाई।

3. रोजगार गारंटी योजना

बेरोजगारी से जूझ रहे भारतीय नागरिकों के लिए मनमोहन सिंह (Manmohan Singh) द्वारा रोजगार गारंटी योजना (Rojgar Gaurantee Yojna) लाई गई। जिसके तहत बेरोजगारों को साल में 100 दिन काम और न्यूनतम दैनिक मजदूरी ₹100 दी जाने लगी। इस योजना की खास बात यह भी थी कि इसमें पुरुष और महिलाओं के साथ वेतन के मामले में भेदभाव नहीं किया जाता है। यानी जितना वेतन पुरुष को मिलता उतना ही महिलाओं को दिया जाता है।

4. आधार कार्ड योजना

आज हमारी पहचान का सबसे बड़ा माध्यम है आधार कार्ड 2009 के समय में मनमोहन सिंह के कार्यकाल के दौरान ही आधार कार्ड योजना (Aadhar Card Yojna) आई। तत्कालीन प्रधानमंत्री डॉ मनमोहन सिंह की योजना की तारीफ संयुक्त राष्ट्र संघ (United Nations) द्वारा भी की गई।

5. शिक्षा का अधिकार

भारत में अक्सर कई बच्चों को अपनी गरीबी के कारण शिक्षा नहीं मिल पाती थी। मनमोहन सिंह के कार्यकाल के दौरान ही राइट टू एजुकेशन (Right To Education) यानी शिक्षा का अधिकार सामने आया। जिसके तहत 6 से 14 वर्ष के बच्चों को मुफ्त और अनिवार्य शिक्षा दी जाने लगी।

जो लोग केवल पूर्व प्रधानमंत्री और महान अर्थशास्त्री डॉ मनमोहन सिंह को केवल ‘मौन’ मोहन कहकर हंसी ठहाके लगाते हैं। उन्हें जरूर इन बातों को जानने के बाद महान अर्थशास्त्री और पूर्व प्रधानमंत्री से मोटिवेशन जरूर मिला होगा।

आगे पढ़ें:

Manoj Thayat

Manoj Thayat

पत्रकारिता मनोज का जुनून है। इसी जुनून को जीने के लिए और अपने तरीके से ख़बरों को आप तक पहुँचाने के लिए मनोज The Toss News के साथ जुड़े हैं। मनोज को पढ़ने, लिखने और संवाद करने का बेहद शौक है। देश-दुनिया की ख़बरों को आप तक समय-समय पर पहुँचाना मनोज का लक्ष्य है। आप सभी रोज़ाना मनोज द्वारा लिखी गईं ख़बरें पढ़ सकते हैं और Comment में अपना Feedback भी दे सकते हैं।