भारत-चीन तनाव के बीच लद्दाख पहुंचे सेना प्रमुख नरवणे, क्या अब निकलेगा कोई समाधान?

भारत-चीन तनाव के बीच लद्दाख पहुंचे सेना प्रमुख नरवणे, क्या अब निकलेगा कोई समाधान?
▶️भारत-चीन सीमा तनाव के बीच लद्दाख पहुंचे सेना प्रमुख मनोज मुकुंद नरवणे
▶️पैंग्गोंग नॉर्थ फिंगर 4 में आमने-सामने भारत-चीन सैनिक
▶️एलएसी (Line of Actual Control) पर भी तनाव जारी, सैन्य और डिप्लोमेटिक स्तर की बातचीत से भी नहीं निकल रहा कोई हल

भारत-चीन सीमा विवाद (Indo-China Border Issue) की वर्तमान स्थिति से युद्ध की आहट सी महसूस होने लगी है। सभी ने 1962 का युद्ध, 1965 और 1975 की हिंसक झड़प की भयावहता को इतिहास में पढ़ा है लेकिन 15-16 जून को गलवान घाटी में जो कुछ भी हुआ वह आज भी हमारे जेहन में जिंदा है। दोनों देशों के बीच तमाम बातचीत और बैठक के बावजूद भी कोई समाधान निकलते हुए दिखाई नहीं दे रहा है। ऐसे में सेना प्रमुख के अचानक लद्दाख पहुंच जाने से युद्ध की आहट सी महसूस होने लगी है।

सेना प्रमुख नरवणे पहुंचे लद्दाख

Narwana reaches Laddakh to tour India China situation

सीमा तनाव के बीच भारतीय सेना के सेना प्रमुख जनरल मनोज मुकुंद नरवणे (Army Chief General Manoj Mukund Narwane) लद्दाख पहुंच गए हैं। नरवणे सैन्य तैयारियों का जायजा लेने और सेना का मनोबल बढ़ाने के लिए दो दिवसीय लद्दाख दौरे पर हैं। बृहस्पतिवार सुबह लद्दाख (Laddakh) पहुंचे सेना प्रमुख नरवणे ने वर्तमान स्थिति पर उच्च सैन्य अधिकारियों से बातचीत की, जिसमें सैन्य अधिकारियों ने बताया कि, चीन द्वारा एलएसी पर सेना बल बढ़ा दिया गया है। इससे निपटने के लिए भारत की भी पूरी तैयारी है। दूसरी ओर वायु सेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया (Air Chief Marshal RK Bhadoria) पूर्वी सीमाओं अरुणाचल और सिक्किम में सैन्य तैयारियों का जायजा लेने पहुंचे हैं।

पैंगोंग में युद्ध जैसे हालात

पैंगोंग में नार्थ फिंगर 4 का इलाका जून के बाद पहली बार भारत के कब्जे में है, गौरतलब है कि यहां से कुछ ही मीटर की दूरी के ईस्ट हिस्से में चीनी पोस्ट तैनात है। जिस तरह तमाम बातचीत से कोई बेहतर हल नहीं निकल पा रहा है ऐसे में आशंका है कि नार्थ फिंगर 4 में कभी भी दोनों सेनाओं के बीच हिंसक झड़प हो सकती है।

जुलाई में प्रधानमंत्री मोदी और रक्षामंत्री राजनाथ सिंह भी पहुंचे थे लद्दाख

बीते 4 महीनों से चल रहे इस तनातनी के बीच प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी (PM Narendra Modi) हो या रक्षा से जुड़े तमाम बड़े अधिकारी लगातार जम्मू कश्मीर और लद्दाख दौरे पर पहुंच रहे हैं। जुलाई के पहले सप्ताह में प्रधानमंत्री मोदी चीन और पाकिस्तान समेत पूरे विश्व को संदेश देने और सेना का मनोबल बढ़ाने लेह लद्दाख पहुंचे थे।

पीएम मोदी के साथ चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ (Chief of Defence Staff) बिपिन रावत भी संयुक्त रूप से लेह लद्दाख पहुंचे थे। इनके अलावा जुलाई के मध्य में रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह सेना के तमाम बड़े अधिकारियों के साथ जम्मू कश्मीर और लद्दाख दौरे पर पहुंचे थे। वहां उन्होंने वास्तविक नियंत्रण रेखा (LAC) और नियंत्रण रेखा (LOC) की स्थितियों का जायजा लिया था।

उच्चाधिकारियों के तमाम दौरों के बीच ये देखना दिलचस्प होगा कि, क्या 3-4 महीने से चल रहे इस तनाव का बातचीत के जरिए कोई हल निकलेगा या फिर भारत को मजबूरन गोली का जवाब गोली से देना पड़ेगा।

आगे पढ़ें

Juli Kumari

Juli Kumari

जूली एक सिंपल सी लड़की है जिसे खुद सजना और ख़बरों को अपने शब्दों से सजाना बेहद पसंद है। जूली को राजनीति, लाइफस्टाइल और कविताएं लिखने का भी काफी शौक है। आप The Toss News में जूली के लिखे हुए लेखों को पढ़ सकते हैं और पसंद आए तो शेयर भी कर सकते हैं। और एक राज़ की बात बताऊं? कमेंट कर के या हमारे Social Media Platforms पर मेकअप और हेयरस्टाइल टिप्स भी ले सकते हैं।