नोटबंदी के 4 साल, देश को हुए ये 3 बड़े फायदे

नोटबंदी के 4 साल, देश को हुए ये 3 बड़े फायदे
▶️8 नवंबर 2016 की रात 8 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी का किया था ऐलान, बैंको के आगे लगी थी लंबी-लंबी कतार
▶️नोटबंदी ने की थी सरकारी कर्मचारियों की हवा टाइट, इस दौरान बड़े-बड़े सरकारी कर्मचारी कई–कई दिनों तक अपने घर नहीं जा पाए थे
▶️नोटबंदी से कालेधन पर लगाम लगने के साथ-साथ बैंकों की भी खूब हुई थी कमाई, डिजिटल पेमेंट को लेकर भी आई जागरूकता

4 Years Of Demonetisation: आज सुबह से ही ट्विटर पर नोटबंदी को लेकर तरह-तरह के ट्वीट किए जा रहे हैं। इतना ही नहीं टविटर पर तो आज के दिन को काला दिन बताया गया है, यही कारण है कि आज सुबह से सोशल मडिया पर #नोटबंदीकालादिवस (#Notebandikaladiwas) ट्रेंड कर रहा है, 8 नवंबर 2016 की रात 8 बजे प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नोटबंदी (PM Modi Announce Demonetisation 4 years ago) का ऐलान किया जिसके बाद पूरे देश में हड़कंप मच गया।

नोटबंदी को लेकर लोगों की सोच

जब पीएम मोदी ने नोटबंदी (Demonetisation In India) का ऐलान किया तब उन्होने ये भी कहा ता कि केवल 50 दिन दो, स्थिती फिर से सामान्य हो जाएंगी, लेकिन लोगों को ये कहां मंजूर था, आम जनता ने पीएम के इस फैसले को खूब कोसा। बैंकों के आगे लगी लंबी-लंबी लाइनों ने नोटबंदी का जमकर विरोध (Protest Against Demonetisation) किया। लोग सीधे तौर पर ये बयान देते थे कि पीएम मोदी ने आम जनता को परेशान करने के लिए और अपने फायदे का सोचकर ये फैसला लिया है, हमें काम-धाम छोड़कर लाइन में लगना पड़ रहा है, इससे कोई फायदा नहीं होगा।

4 Years Of Demonetisation In India

नोटबंदी से देश को हुए ये 3 बड़े फायदे

नोटबंदी (Demonetisation Benefits To Public) को लेकर विरोध करने वाली जनता शायद इस बात को नहीं जानती है कि इस फैसले से सरकार को कई बड़े फायदे हुए हैं। अगर आप नहीं जानते कि नोटबंदी का देश पर क्या असर पड़ा है तो नीचे दिए गए तीन बड़े फायदों को पढ़ना बिलकुल ना भूलें।

  1. सरकारी कर्मचारियों की हुई थी हवा टाइट

हम जब भी किसी सरकारी दफ्तर (Government Office) में काम करवाने जाते हैं तो वहां के कर्मचारियों को अक्सर गप्पे हांकते औऱ लंच करते देखा जाता है लेकिन नोटबंदी ने सबकी हवा टाइट कर दी थी। इस दौरान तो बड़े-बड़े सरकारी कर्मचारी भी कई–कई दिनों तक अपने घर नहीं जा पाए थे।

ये तो कर्मचारियों की बात हुई, लेकिन इस नोटबंदी ने तो आरबीआई के गवर्नर उर्जित पटेल (RBI Governer Urjit Patel) से भी खूब काम करवाया, हालात तो ऐसे थे कि गवर्नर उर्जित पटेल 9 महीने तक नोटों की गिनती ही करते रह गए।

4 Years Of Demonetisation In India

2.काले धन का खात्मा

देश में काला धन (Black Money Reduce In India Through Demonetisation) को लेकर काफी बातें होती थी। लेकिन ये बातें नोटबंदी ने पूरी तरह से बंद कर दी। एक फैसले ने काले धन की लेनी-देनी कर दी। देशभर में शुरू से ही काले धन का इस्तेमाल प्रॉपर्टी और सोना-चांदी आदि में किया जाता था जिसके कारण ये और बढ़ रही थी, ऐसे में इसपर लगाम तबतक नहीं लग पाता जबतक सामाजिक स्तर पर इसका बहिष्कार न होने लग जाए।

  1. डिजिटल पेमेंट को मिला बढ़ावा

पहले लोग सैलरी और बचाए हुए पैसे घर में ही रखते थे। जब ज़रूरत हुई खर्च किया वरना घर की तिजोरी में पैसे बंद रहते थे, लेकिन नोटबंदी (Demonetisation Increses Digital Payments) से कालेधन पर लगाम लगने के साथ-साथ बैंकों की भी खूब कमाई हुई, इसके अलावा लोगों में डिजिटल पेमेंट को लेकर भी जागरूकता आई। अब लोग पैसों की लेनदेन गर जाकर नहीं करते बल्कि डिजिटल पेमेंट के जरिए कर देते हैं वो भी घर बैठे-बैठे।

इसके अलावा भी नोटबंदी से देश को कई बड़ा फायदे हुए हैं जैसे- फाइनेंशियल सेविंग में इजाफा, भ्रष्टाचार पर लगाम, कैशलेस इकोनॉमी आदि।

आगे पढ़ें-

Juli Kumari

Juli Kumari

जूली एक सिंपल सी लड़की है जिसे खुद सजना और ख़बरों को अपने शब्दों से सजाना बेहद पसंद है। जूली को राजनीति, लाइफस्टाइल और कविताएं लिखने का भी काफी शौक है। आप The Toss News में जूली के लिखे हुए लेखों को पढ़ सकते हैं और पसंद आए तो शेयर भी कर सकते हैं। और एक राज़ की बात बताऊं? कमेंट कर के या हमारे Social Media Platforms पर मेकअप और हेयरस्टाइल टिप्स भी ले सकते हैं।

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *