Author: Deeksha Chakravarty

दीक्षा एक ऐसी लड़की जो खुल कर जीने में विश्वास रखती है। जो कल में नहीं आज में भरोसा करती है। दीक्षा का कहना है कि ज़िन्दगी एक बार ही मिलती है तो जियो भी ऐसे जैसे एक बार ही मिली है। दीक्षा को बचपन से हर बात के पीछे का क्यों पता करना होता था और इसी क्यों ने उसके अंदर लिखने का शौक पैदा किया। सजना, संवरना तो हर लड़की का शौक होता है उसके साथ ही दीक्षा को नृत्य का, कविताएं लिखने का और तरह तरह के व्यंजन बनाने का शौक है।